Saturday, December 31, 2011



आप सभी को नव वर्ष 2011 सपरिवार मंगलमय हो। 

Monday, December 26, 2011

मन मोरा बावरा ........

मेरे मुख्य ब्लॉग पर आपका स्वागत है .कृपया यहाँ क्लिक करें

इस गीत की खासियत यह है कि इसको स्वर दिये हैं मोहम्मद रफी ने जिसका फिल्मांकन किशोर दा पर किया गया है।

अपनी तरह का अनूठा गीत।


साँसों मे कभी

दिल का सूना कागज़

दो घड़ी ज़रा चैन से

जिंदगी भर नहीं भूलेगी

सुबह न आई शाम न आयी

वो हम न थे वो तुम न थे