Saturday, December 31, 2011



आप सभी को नव वर्ष 2011 सपरिवार मंगलमय हो। 

Monday, December 26, 2011

मन मोरा बावरा ........

मेरे मुख्य ब्लॉग पर आपका स्वागत है .कृपया यहाँ क्लिक करें

इस गीत की खासियत यह है कि इसको स्वर दिये हैं मोहम्मद रफी ने जिसका फिल्मांकन किशोर दा पर किया गया है।

अपनी तरह का अनूठा गीत।


साँसों मे कभी

दिल का सूना कागज़

दो घड़ी ज़रा चैन से

जिंदगी भर नहीं भूलेगी

सुबह न आई शाम न आयी

वो हम न थे वो तुम न थे

Monday, November 21, 2011

दगा ए दिल हमको याद आने लगे

होठों पे उनके कभी मेरा नाम भी आए

वो बातें तेरी फसाने तेरे

तुम्हारे शहर का मौसम

निगाहें मिलाकर बदल जाने वाले

Friday, November 11, 2011

दर्द से मेरा दामन भर दे या अल्लाह

यूं सजा चाँद (LIVE)

कभी कभी मेरे दिल मे (LIVE)

ए मेरे वतन के लोगों (LIVE)

एक दिन बिक जाएगा (LIVE)

मेरा जीवन कोरा कागज़ (LIVE)

पल पल दिल के पास (LIVE)

क्या हुआ तेरा वादा (LIVE)

Monday, October 31, 2011

आज उड़ता हुआ एक पंछी

मेरे मुख्य ब्लॉग पर आपका स्वागत है .कृपया यहाँ क्लिक करें

आप नाराज़ खुदा खैर करे

मेरे मुख्य ब्लॉग पर आपका स्वागत है .कृपया यहाँ क्लिक करें

बोल मेरे साथिया कितना मुझ से प्यार है


आप आए बहार आई

रंग और नूर की बारात ......


तेरी आँखों का रंग निराला है

Monday, October 10, 2011

श्रद्धांजलि


शांत सुबह मे मन को सुकून देने वाली
मस्त शामों मे दिल को झूमा देने वाली
उदासी के पलों मे अक्सर संबल देने वाली
वो आवाज़ क्या कभी थम सकती है?
नहीं !
वो आवाज़ गूंज रही है अब भी
वो आवाज़ गूँजती रहेगी हमेशा
हर फिजाँ मे इसी तरह । 
---------यशवन्त माथुर

गजल सम्राट जगजीत सिंह जी को हार्दिक श्रद्धांजलि













Friday, September 30, 2011

मैं ये सोच कर

खोया खोया चाँद --Instrumental

आएगा आने वाला--Instrumental

जब दीप जले आना--Instrumental

अभी न जाओ छोड़ कर --Instrumental

एहसान तेरा होगा मुझ पर--Instrumental

मेरी भीगी भीगी सी-- Instrumental

Monday, September 26, 2011

हम से नैन मिलाना

काली घटा

जलते हैं जिस लिए

चोरी चोरी दिल मे समाया

एक हम......

ये रुत ये रात जवां

शाम ए गम की कसम

रूत जवां

Thursday, September 22, 2011

तड़प ये दिन रात की

दिल खुश है

मेरे मुख्य ब्लॉग पर आपका स्वागत है .कृपया यहाँ क्लिक करें

मिले न फू तो काँटों से ....

मेरे मुख्य ब्लॉग पर आपका स्वागत है .कृपया यहाँ क्लिक करें

रंग और नूर की


चलो एक बार फिर से-

Beautiful performance by a sweet little girl (playing Tu hi re)

हमसफर

सबसे पीछे हम खड़े

ओ सनम

डूबा डूबा रहता हूँ


शुक्रान अल्लाह (Instrumental)

Wednesday, September 7, 2011

जिंदगी ......


Songs Suggested by Mis Sushma'Ahuti'

ये जीवन है



तुझ से नाराज़ नहीं ज़िंदगी


ये सफर बड़ा है कठिन


मेरे हमसफर


जिंदगी कैसी है पहेली


ज़िंदगी का सफर


जिंदगी की यही रीत है

Saturday, August 27, 2011

महान गायक मुकेश जी की पुण्य तिथि (27 Aug) पर कुछ गीत --



छोटी सी है ज़िंदगानी


चन्दन सा बदन


वो तेरे प्यार का गम


डम डम डिगा डिगा


जिस दिल मे बसा था प्यार तेरा


ओ जाने वाले हो सके तो लौट के आना


चले जाना ज़रा ठहरो


सावन का महीना


कहीं करती होगी वो मेरा इंतज़ार


कभी कभी मेरे दिल मे


कोई जब तुम्हारा


आँसू भरी हैं


मेरा जूता है जापानी


ये मेरा दीवानापन


आ लौट के आजा मेरे मीत


दुनिया बनाने वाले


Sunday, August 21, 2011

मुझ से नाराज़ हो तो हो जाओ


कोई रूठ कर जाए.इससे पहले उसको मन लीजिये...
जिन्दगी उसके बिना पूरी न होगी....
एक गीत गा कर, उसको बुला लीजिये.....


--सुषमा 'आहुति'

Songs suggested by Mis Suhma Ahuti Ji




वो हैं ज़रा खफा खफा



रूठ न जाना तुम से कहूँ तो



रूठ के हम से कहीं जब चले जाओगे तुम



अजी रूठ कर अब




रूठे रूठे पिया-

Get this widget | Track details | eSnips Social DNA

Tuesday, August 16, 2011

रात के हमसफर

भँवरे की गुंजन है मेरा दिल

एक अजनबी हसीना से ....

गुनगुना रहे हैं भँवरे

ए चाँद ज़रा छुप जा

जिंदगी देने वाले सुन

ए मेरे दिल कहीं और चल

टिम टिम ....

राते गुज़ार दी हैं तारों की रोशनी मे

मन धीरे धीरे गाये रे

Friday, July 29, 2011

आँधियाँ गम की यूं चलीं......

अब यहाँ कोई नहीं ,कोई नहीं आएगा .....

आज की रात

अभी ढूंढ ही रही थी......

तेरे दर पर सनम चले आए ..........

जो अपनी हसरतों पे ...........

जिंदगी जा छोड़ दे पीछा मेरा

दुनिया ने हम पे जब कोई इल्ज़ाम रख दिया

तेरे मुखड़े दा काला काला तिल वे

निगाह नीची किये सर झुकाए बैठे हैं --(नूर जहां)

निगाह नीची किये ....

Monday, June 27, 2011

Why not me (euphoria)

Tu y yo (euphoria)

Heart breaker

May be

This flight tonight

Love hurts

ठंडी ठंडी हवा

जीने वाले मुस्कुरा के जी

घर आजा घिर आये बदरा

प्यार करता जा

मैं जानती हूँ

क्यों मुझे इतनी खुशी

Monday, June 6, 2011

कुछ दिल ने कहा......

धीरे धीरे मचल ऐ दिले बेकरार ......

कहीं ये वो तो नहीं....

 (कृपया इस गाने को सुनते समय अपने सिस्टम का साउंड वोल्यूम आरामदायक मोड पर सेट कर लें.डिफौल्ट वोल्यूम बहुत ज्यादा है )


वो भूली दास्ताँ लो फिर याद आ गयी........

वो देखो जला घर किसी का.......

सब कुछ लुटा के होश में.... (Lata)

सब कुछ लुटा के होश में ......(फिल्म-एक साल-1957)

हम से आया न गया.......

करवटें बदलते रहे ......